blogging, poetry, Uncategorized

El problemo

(English translation of this hindi poem is written right after) उलझी रह गई उलझनों में, सुलझाने चली उलझनों को, सुलझाना क्या चाहा उलझनों को, और उलझती चली मैं उलझनों में। बारिश हुई बिन बादल के कोहरा छाया घना घना, एक उलझन सुलझाने को मेरा मन भी बना बना। उलझन सुलझी सूरज आया, फिर बाक़ी उलझनों… Continue reading El problemo

blogging, life, poetry

I desire..

(English translation of this Hindi poem is available right below it) हर रिश्ते में रहते हुए हर रिश्ते से रिहाई चाहिए, जहाँ मैं खुद से मिल सकूँ वो मुकाम चाहिए | नूर खुद का खुद के लिए चाहिए, आँसू भी खुद के खुद पर ही चाहिए| न अब इस दिल को कोई करीबी न कोई… Continue reading I desire..

Hindi, poetry, relationships

Your love, my doctrine

(The English translation of this hindi poem is also present right below it) बेसब्र है मेरा दिल, आने को तेरे आशियाँ । बेअदब है ये वक़्त, जिसने किया है हमें जुदा । बेताब है मेरी रूह, करने को एक बार फिर इक़रार, के बेदाग़ है मेरा इश्क़, और तेरे अल्फाज़ ही हैं मेरा ईमान ।… Continue reading Your love, my doctrine